Sai Prasad Corporation पर सेबी द्वारा लगाया गया प्रतिबंध।

images नई दिल्ली / महाराष्ट्र की प्रसिद्ध एवं देश भर में पैसा जुटा चुकी कम्पनी साईं प्रसाद कारपोरेशन पर सेबी द्वारा प्रतिबंध लगा दिया गया है। जिसके कारण यह कम्पनी अब किसी भी योजना के तहत लोगो से पैसा नही जुटा सकती। बार – बार कम्पनी पर चिटफंड कारोबार के आरोप लगते रहे है।
पर कम्पनी का कहना है। कि वह रियल एस्टेट में काम करती है। ऊचे रिटर्न का वादा कर धन इकट्टा कर अवैध योजनाओ के खिलाफ अभियान जारी रखते हुए। भारतीय प्रतिभूति विनिमय बोर्ड (सेबी) ने साईं प्रसाद कारपोरेशन और उसके निर्देशकों पर जनता से धन जुटाने पर रोक लगाई गई है साथ ही कम्पनी द्वारा कोई नई निवेश योजना शुरू करने पर भी रोक लगाई गई है।
इस कम्पनी के तीन निर्देशकों द्वारा भूमि विकास के लिए संयुक्त उद्यम भागीदारी कारोबार के नाम पर सामूहिक निवेश योजना (सीआईएम) चला रहे थे। सेबी द्वारा बताया गया कि कम्पनी ने २०१२ -१३ में जनता से १३७. १२ करोड़ रूपए की राशि जमा कराई थी।
जो वर्ष २०१३ -१४ में बढ़ कर ४७८. ३५ करोड़ रूपए हो गई। सेबी द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार साईं कारपोरेशन सीआईएम के जरिए जनता से धन जुटा रही थी जबकि उसके पास नियामक से इसके लिए कोई प्रमाणन प्राप्त नही है। सेबी द्वारा निवेशकों के संरक्षण के लिए कम्पनी और तीन निर्देशकों बालासाहेब के भापकर ,शशांक बी भापकर ,और वंदना बी भापकर को धन जुटाने के लिए किसी भी गतिविधि को रोका गया है।

Written by Editor in Chief

Tags: ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

%d bloggers like this: